मोदी सरकार को झटका, फिच ने घटाई जीडीपी की विकास दर

प्रमुख ग्लोबल रेटिंग एजेंसी ने भारत की आर्थिक विकास दर कम होने का अनुमान लगाया है. एजेंसी ने इस वर्ष के लिए इस अनुमान को 6.9 से गिरा कर 6.7 फीसदी कर दिया है. रेटिंग एजेंसी फिच ने कहा है कि हाल ही कुछ तिमाहियों में अर्थव्यवस्था में सुधार की दर उम्मीद से बहुत कम हुई है. लेकिन भारत सरकार की ओर से लगातार आर्थिक सुधार के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. इसके चलते अगले 2 वर्ष विकास दर में तेजी का अनुमान बताया गया है.

प्रमुख ग्लोबल रेटिंग एजेंसी ने भारत की आर्थिक विकास दर कम होने का अनुमान लगाया है. एजेंसी ने इस वर्ष के लिए इस अनुमान को 6.9 से गिरा कर 6.7 फीसदी कर दिया है. रेटिंग एजेंसी फिच ने कहा है कि हाल ही कुछ तिमाहियों में अर्थव्यवस्था में सुधार की दर उम्मीद से बहुत कम हुई है. लेकिन भारत सरकार की ओर से लगातार आर्थिक सुधार के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. इसके चलते अगले 2 वर्ष विकास दर में तेजी का अनुमान बताया गया है.

रेटिंग एजेंसी ने कहा है कि आर्थिक सुधार की दिशा में सरकार के कदमों से विकास परिदृश्य में सुधार होगा और साथ ही उद्यमियों का भरोसा भी बढ़ेगा. आने वाले अगले 2 सालों में बैंकों में 2.1 लाख करोड़ की पंछी डालने संबंधी सरकारी योजना से बैंकों की कर्ज देने की क्षमता बढ़ जाएगी. इसके साथ ही 6.9 लाख करोड रुपए की सड़क निर्माण परियोजनाओं से निवेश को प्रोत्साहन भी मिलेगा. बीती तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर बढ़ने के बावजूद फिच ने भारत की विकास दर के लिए अपना अनुमान कम कर दिया है. एजेंसी ने कहा है कि अर्थव्यवस्था में सुधार उम्मीद के अनुरूप नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here